रायगढ़ : आंगनबाड़ी केन्द्रों में जल्द मिलने शुरू होंगे रागी के लड्डू, एक्सपर्ट ने महिला समूहों को दी ट्रेनिंग

आंगनबाड़ी केन्द्रों

रागी पौष्टिक गुणों से भरपूर होती है, इससे बने लड्डू बच्चों को कुपोषण मुक्त करने के लिए काफी उपयोगी साबित होगी। जल्द ही आंगनबाड़ी केन्द्रों में रागी के लड्डू का वितरण शुरू होने जा रहा है। उक्त बातें कलेक्टर श्री भीम सिंह ने कलेक्टोरेट के सृजन सभाकक्ष में महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा आयोजित कार्यशाला में कही।

जिले के आदिवासी विकासखण्डों के आंगनबाड़ी केन्द्र में बच्चों के कुपोषण मुक्ति के लिए रागी लड्डू देने का प्रोजेक्ट तैयार किया गया है। जिसके संबंध में यह एक दिवसीय कार्यशाला आयोजित की गई, जिसमें महिला समूहों को रागी से लड्डू तैयार करने के बारे में प्रशिक्षण दिया गया।

जिसमें विशेष रूप से वासन संस्था राज्य स्तरीय रेसपी एक्सपर्ट ओडिसा से श्रीमती शबनम, जिला स्तरीय रागी प्रोग्राम लीड सुन्दरगढ़ आबिद तथा स्टेट प्रोग्राम आफिसर नीरजा कुद्रीमोती आमंत्रित थी। उन्होंने ओडिसा में बनाए जा रहे रागी मिक्स की क्वालिटी एवं उनमें मिलाए जाने वाले अन्य चीजों की मात्रा के बारे जानकारी दी।


आए हुये एक्सपर्ट में रागी लड्डू निर्माण की प्रक्रिया को चरणबद्व तरीके से उपस्थित समूह को बताया। इसके साथ ही उन्होंने रागी लड्डू के निर्माण में प्रयुक्त होने वाले रागी, शक्कर, मूंगफली, तिल आदि की सफाई का विशेष ध्यान रखने को कहा, जिससे लड्डू को विशेष रूप से कुषोषित बच्चों को पोषण आहार के रूप में दिया जा सके।

साथ ही उन्होंने बताया कि ओडिसा में 20 ग्राम रागी मिक्स एक बच्चे को माह में दिया जा रहा है। जिससे कुपोषित बच्चों में अच्छा परिणाम देखने को मिला है। श्रीमती शबनम ने कहा कि पैकेजिंग में भी विशेष ध्यान रखे एवं पैकेट में निर्माण तिथि, उपयोग करने की अंतिम तिथि तथा समूह का नाम जैसे  अन्य जानकारी को भी अनिवार्य रूप से अंकित करने को कहा।
 

Share this story