रायपुर:करंट लगने से 8 मवेशियों की मौत,मालिकों को दिया जाएगा मुआवजा

 मवेशियों

रायपुर। शहर के ऊपर से गुजर रही हाइटेंशन लाइन अब मौत बनकर टूटने लगी है। दो दिन पहले छत पर गया मजदूर तारो की चपेट में आ गया था। तो वही आज सुबह ऐसे ही हाईटेंशन वायर के चपेट में आने से 8 मवेशियों की जान चले गई। भाठागांव खुडमुड़ा घाट के पास घास चरने गए मवेशियों में से 8 जिसमे 5 भैस और 3 गाय की करंट लगने से मौत हो गयी।

हादसे की सूचना मिलते ही पुलिस और सीएसईबी की टीम मौके पर पहुंची और मवेशियों को अपने कब्जे में ले लिया है। घटना के बाद से ही लोगो में आक्रोश है। लोग सीएसईबी के कर्मचारियों पर अपना गुस्सा निकालना शुरू कर दिया। मौके पर मौजूद पुलिस की टीम ने मामले को संभाला और लोगो को शांत करवाया।

जानकारी के मुताबिक बारिश की वजह से खेत से होकर गयी हाईटेंशन तार आपस मे फंस कर टूट गयी थी। इसकी शिकायत भी की गयी थी लेकिन कोई भी इसकी सुध लेने वहाँ नही पहुंचा। बता दे 2 दीन पूर्व ही एक मजदुर भी छत से गयी हाईटेंशन तार में झुलस गया जिसे डायल 112 की टीम ने बचा लिया था।

बिजली विभाग की ओर से तारों और खंभों की उचित देखरेख न होने के कारण आए दिन बिजली दुर्घटना से लोगों के साथ मवेशियों की जानें जा रही हैं। ज्यादातर घटनाएं खेतों में बिजली प्रवाहित तार के गिरने से होती है। कई जगहों पर खंभे एकदम जर्जर हालात में हैं, तो कहीं बिजली के तार बहुत नीचे तक लटके हुए हैं। ऐसे हादसे में जान गंवाने पर मृतकों के स्वजनों को मुआवजा देने का प्रावधान है।

 करंट से मौत होने पर प्रत्येक पर 32 हजार आठ सौ रुपये का मुआवजा बिजली विभाग देता है। बिजली विभाग के चीफ इंजीनियर शहर आरए पाठक ने कहा कि करंट की चपेट में आकर मृत भैंसों के मालिकों को निर्धारित मुआवजा दिलाया जाएगा। इसके साथ ही व्यवस्था में भी सुधार किया जाएगा।

Share this story