हाथी के दांत में आखिर ऐसा क्या होता है कि ये सोने से भी महंगे बिकते हैं?

हाथी

हाथी के दांत के बारे में आपने बहुत कुछ सुना होगा कि यह काफी महंगे होते हैं. इसके लिए कई लोग तस्करी भी करते हैं और इसके चक्कर में कई हाथियों की हत्या भी कर दी जाती है. कई लोग इसे सजाने के लिए काम में लेते हैं तो कई लोग इसके आभूषण बनाते हैं.

हाथी दांत से बनने वाले हाथी दांत की चूड़ियां काफी लोकप्रिय भी हैं, जिसके लिए लोग लाखों रुपये खर्च कर देते हैं. लेकिन कभी आपने सोचा है कि आखिर इस हाथी दांत में ऐसा क्या होता है कि इसकी कीमत इतनी ज्यादा होती है.

ऐसे में आज हम आपको बताते हैं कि आखिर इसमें क्या खास होता है और ये हाथी के दांत कितने रुपये में मिलते हैं. साथ ही जानेंगे कि हाथी के दांतों का कारोबार लीगल है या नहीं. साथ ही जानेंगे कि हाथी के दांत से जुड़ी खास बातें, जिनके बारे में जानकर आप हैरान रह जाएंगे.


वैसे देखा जाए तो इसकी कोई आंतरिक वैल्यू नहीं होती है. यानी इसमें ऐसे कोई तत्व नहीं होते हैं, जो उसे खास बनाते हो. इनकी सांस्कृति वैल्यू ज्यादा मानी जाती है और इसलिए इसे बेशकीमती माना जाता है. साथ ही इसे स्टेट्स सिंबल से जोड़ा जाता है और इसलिए इसकी कीमत काफी ज्यादा होती है.

इसका कोई आंतरिक मूल्य नहीं है, लेकिन इसके सांस्कृतिक उपयोग हाथी दांत को अत्यधिक बेशकीमती बनाते हैं. यह सिर्फ लग्जरी का प्रतीक माने जाने की वजह से काफी फेमस है और इसे इतने महंगे में खरीदा जाता है.


अगर हाथी दांत की कीमत के बारे में बात करें तो यह काफी महंगे बिकते हैं. इनकी कोई फिक्स रेट नहीं है, लेकिन यह काफी महंगे होते हैं. कुछ साल पहले पश्चिम बंगाल में 17 किलो हाथी के दांत पकड़े गए थे, जिनकी अंतरराष्ट्रीय मार्केट में वैल्यू करीब एक करोड़ 70 लाख रुपये है. इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि इसके एक किलो की वैल्यू 10 लाख रुपये है. यानी अगर हाथी दांत 10 किलो के हैं तो उसके 1 करोड़ रुपये तक देने पड़ते हैं.

हालांकि, इससे हाथियों की हत्या की संख्या में काफी बढ़ोतरी हुई है. 1989 में हाथी दांत के बिक्री पर रोक लगाने से अफ़्रीका में हाथियों की जनसंख्या स्थिर हुई. कानून के अनुसार, जो कोई हाथी, ऊंट, घोड़ा, खच्चर, सांड, गाय या बैल जिसका मूल्य कुछ भी हो पचास रुपए या उससे अधिक होता है, उसका वध करने, विष देने, विकलांग करने या निरुपयोगी बनाने पर जेल और जुर्माने का प्रावधान है.

Share this story