कोविड अधिकारी ने टॉयलेट में नोटों को डालकर किया फ्लश, वजह जानकर चौंक जाएंगे आप

 टॉयलेट

नई दिल्ली। कोरोना काल में कोविड नियमों की आड़ में लोगों को धमकाकर पैसों की वसूली करने वाले कोविड अधिकारी और सिविल डिफेंसकर्मी के उस वक्त पसीने छूट गए जब उन्हें पता चला कि एंटी करप्शन ब्यूरो ने रेड मारी है। 

होटल में पैसों का लेन-देन कर रहे दोनों ने जैसे ही देखा कि वे पकड़ जाएंगे तो उन्होंने करीब 25 हजार रुपए कैश टायलेट में डालकर फ्लश कर दिए। बाकी की रकम भी वे टॉयलेट में डालने जा रहे थे इससे पहले ही एसीबी की टीम ने उन्हें हिरासत में ले लिया। उनके हाथ केमिकल में डूबोए गए और वे रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिए गए।

दरअसल रविंद्र मेहरा को कोविड अधिकारी बनाया गया है जो पीतमपुरा में केशव महाविद्यालय में लाइब्रेरियन है। कोरोना काल में उसकी ड्यूटी साउथ ईस्ट जिले में थी। वो कोविड अधिकारी के तौर पर कोविड नियमों की मॉनिटरिंग कर रहा था। इसी दौरान लाजपत नगर के स्पा सेंटरों के मालिकों को उसने धमकी दी। कहा कि उनका चालान काटा जाएगा।

उन्हें ये डर दिखाकर हर माह 1 लाख रुपए की मांग की। कोविड अधिकारी के साथ इस काम में सिविल डिफेंसकर्मी इमरान खान साथ दे रहा था। इधर इनकी हरकतों से परेशान स्पा मालिकों ने एंटी करप्शन ब्यूरो में रविंद्र मेहरा और इमरान खान की शिकायत कर दी।

जांच में मामला साही पाए जाने पर एसीबी ने ट्रैप का प्लान बनाया और दोनों को रिश्वत की रकम के साथ साउथ दिल्ली के एक होटल में गिरफ्तार कर लिया। एसीबी की टीम को आता देख इमरान ने 25 हजार कैश टॉयलेट में डाल दिए और फ्लश कर दिया। बाकी की रकम वो डालने जा रहा था तभी टीम ने उसे पकड़ लिया।

Share this story